Book value क्या है ? Book value meaning in Hindi | बुक वैल्यू का अर्थ, मतलब, इसके उपयोग

5/5 - (2 votes)

Book value क्या है, Book value meaning in Hindi, book value in HindiBook, value के फायदे –  दोस्तों यदि आप Share market  में Invest  करते हो या आप Share market  में नए-नए  हो तो तो आपने Book value के बारे में अवश्य सुना होगा आपने अवश्य सोचा होगा कि Book value kya hai in Hindi  ,Book value meaning in Hindi ,

आपको यह जानना बहुत ही आवश्यक है कि Book value और Market value  में अंतर क्या होता है Book value कैसे निर्धारित की जाती है आपको यह जानना भी बहुत आवश्यक है कि किसी भी कंपनी के शेयर की वास्तविक कीमत उसका Face value ना हो करके Book value होती है अच्छी Book value वाली कंपनियां अच्छे मुनाफे के संकेत देती है 

दोस्तों यदि आप भी जानना चाहते हो कि Book value kya – hai book value meaning in Hindi , Book value calculation अतः इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक अवश्य पढ़ें 

Book value meaning in Hindi

Book value क्या है – Book value meaning in Hindi   

किसी कंपनी की Balance sheet या उसकी बुक के अनुसार कंपनी की टोटल Value कितनी है यह उस कंपनी की Book value  होती है किसी भी कंपनी की Book value को Share holder fund या  Equity  कहते हैं 

सामान्य शब्दों में कहा जाए तो Book value kya hai – कंपनी के वही खातों में स्थित कंपनी की वह Value जब किसी कंपनी को बंद करने की नौबत आए उस स्थिति में यदि कंपनी को बेच कर सारी देनदारी या कर्ज  की भरपाई करके जितना रुपया बचता है  उसे उस कंपनी की Book value कहते हैं 

 

How to calculate book value  -बुक वैल्यू कैसे निकालते हैं?

Book value calculation कैसे होती है – बुक वैल्यू कैलकुलेशन कैसे होती है इस प्रश्न का जवाब हम कुछ उदाहरण पूर्वक जानेंगे 

जैसे एक कंपनी ₹10 प्रति शेयर के हिसाब से मार्केट में 100000 शेयर उतारती है तो वह कंपनी का टोटल मार्केट कैपिटल 1000000 रुपए का हो जाता है यदि मान लीजिए 1 साल में कंपनी को 500000 का मुनाफा हो गया और उसने डिविडेंड की घोषणा नहीं की तो वह 500000 का मुनाफा जनरल रिजर्व में जुड़ जाएगा अब टोटल मार्केट कैप 1500000 रुपए का हो जाता है 

 जब हम इस कंपनी की बुक वैल्यू की कैलकुलेशन करते हैं तो टोटल शेयर की संख्या से इसके पूरे मार्केट कैप को भाग लगा देते हैं 

1500000/100000 = ₹15 

अतः ₹15 उस कंपनी के शेयर की बुक वैल्यू प्राप्त हो जाती है 

 

Book value Calculation formula In Hindi – बुक वैल्यू कैसे निकाले  

किसी भी कंपनी की बुक वैल्यू निकालने के लिए हम उस कंपनी की संपूर्ण कैपिटल और जनरल रिजर्व को जोड़कर उसके द्वारा जारी किए गए सभी शेयर्स से उस मूल्य में भाग लगाकर बुक वैल्यू प्राप्त कर सकते हैं

 

Book value calculation formula  – 

 

Book value = Equity share + general reserve / Total numbers of share 

 

Book value v\s share price – Book value  v/s  Share की कीमत 

दोस्तों अक्सर यह देखा जाता है कि Share market  में किसी भी कंपनी की शेयर की प्राइस बुक वैल्यू की तुलना में अधिक की ही होती है क्योंकि  इन्वेस्टर कंपनी के भविष्य में और भी ग्रो होने के आसार को देखते हुए उस कंपनी के अधिक से अधिक शेयर खरीदते हैंयदि कंपनी अपनी कंपनी के प्रीमियम शेयर्स भी मार्केट में उतारती हैतो वह जनरल रिजर्व में काउंट हो जाते हैं 

(Book value per share) Bvps ratio In Hindi  – What is bvps ratio  

Book value per share Ratio In Hindi – दोस्तों किसी भी कंपनी के Share के बाजार की कीमत तथा उस Company  की Book value  के मध्य अनुपात को Bvps ratio  कहते हैं 

Bvps ratio को Book Value per share के नाम से भी जाना जाता है यह अक्सर कंपनी के शेयर की Market value  को बुक वैल्यू से विभाजित करके निकाला जाता है 

Benefits of book value in Hindi – Book value के फायदे क्या है 

दोस्तों हम लोग सोचते हैं कि बुक वैल्यू ज्यादा होने से हमें क्या फायदा होता है इन्वेस्टर को क्या फायदा होता है दोस्तों यदि किसी कंपनी की बुक वैल्यू उसके Face value से अधिक होती है तो समझ लेना इस कंपनी के पास जनरल रिजर्व अधिक है उस हालात में इन्वेस्टर को कंपनी की तरफ से या तो डिविडेंड मिल सकता है या कोई भी बोनस शेयर मिल सकता है

दोस्तों हालांकि ज्यादा बुक वैल्यू होना बोनस शेयर के लिए पर्याप्त नहीं होता बल्कि कंपनी को मार्केट सेंड अच्छा परफॉर्मेंस और फायदे में होना चाहिए 

Difference between book value and market value In Hindi – Book value और market value  में अंतर 

Difference between market value and book value – दोस्तों अभी तक आपने जाना है की Book value kya hai in Hindi और किस प्रकार की गणना करते हैं दोस्तों अब आप जानने वाले हो कि Book value और Market value में अंतर क्या है और Book value  Market value  से किस प्रकार अलग है चलिए जानते हैं 

  1.   किसी भी कंपनी की वास्तविक Value  या उसका असली मूल्य उसके Book value  से पता चलता है जबकि Market value  उस कंपनी के अनुमानित वैल्यू  को दिखाता है 
  1.   दोस्तों किसी भी कंपनी के Equity की कीमत को दिखाता है जब की Market value उस कंपनी के शेयर की अधिकतम कीमत दिखाता है जो कि बाजार में परफॉर्मेंस करती हो 
  1.   दोस्तों किसी भी कंपनी की Book value मार्केट पहले की तुलना में अधिक स्थिर होता है जबकि Market value  Book value  की तुलना में कम स्थित होता है वह उतरता चढ़ता रहता है 
  1.   दोस्तों किसी भी कंपनी की बुक वैल्यू तब बाहर आती है जब कंपनी अपनी कमाई की रिपोर्ट जारी करती हो जबकि उसी कंपनी की Market value  की रिपोर्ट शेयर ट्रेडिंग के चलते उतार चढ़ाव होते रहते हैं और बदलती रहती है कभी भी ज्यादा जाती है कभी कम हो जाती है 
  1.   किसी भी कंपनी की Book value कंपनी के Total value या कीमत को दर्शाता है की मार्केट मैं इस कंपनी की कितनी कीमत है जब की Market value  बाजार के रुझानों को दर्शाता है की मार्केट में इस कंपनी की परफॉर्मेंस कैसी है 
  2.   जब कोई कंपनी बंद होने की स्थिति में आती है तब बुक वैल्यू और Market value मैं भिन्नता पाई जाती है इस स्थिति में बुक वैल्यू कंपनी के बैलेंस शीट की टोटल वैल्यू बताता है जबकि Market value  कंपनी की मार्केट में परफॉर्मेंस के आधार पर कंपनी की कीमत को दर्शाता है

दोस्तों किसी भी कंपनी में इन्वेस्टमेंट करने से पहले उसके Face value Market value  और बुक वैल्यू के बारे में अवश्य जान लेना चाहिए यह बहुत ही अच्छा एक कदम हो सकता है जिससे आप नुकसान से बच्चे और अधिक से अधिक मुनाफा कमाए 

  1. Face Value क्या होता है ? Face value meaning in Hindi
  2. Forex Trading Kya Hai ? फॉरेक्स ट्रेडिंग कैसे करें, अर्थ ,प्रकार

 

Conclusion 

दोस्तों अभी तक आपने जाना है कि Book value kya hai in Hindi , book value meaning in Hindi  आशा करता हूं कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा और आपको इस लेख से कुछ मदद मिली होगी 

बुक वैल्यू का सूत्र क्या है?

book value = लागत – संचित मूल्यह्रास 

बुक वैल्यू और रियल वैल्यू में क्या अंतर है?

Book value कंपनी की संपत्ति के वास्तविक price को दिखाता है, जबकि मार्केट वैल्यू कंपनी या उसकी संपत्ति के अनुमानित मूल्य को दर्शाता है

फेस वैल्यू और बुक वैल्यू क्या है?

शेयर मार्केट में Face value काअर्थ Share के उस मूल्य से होता है जब कोई कंपनी अपना शेयर मार्केट में उतारती है जबकि बुक वैल्यू किसी भी कंपनी के फिजकल एसेट की  टोटल वैल्यू होती है

शेयर बुक वैल्यू से ऊपर ट्रेड क्यों करते हैं?

क्योंकि उस कंपनी के पास में अपनी संपत्ति की तुलना में अधिक कमाई करने की क्षमता होती है इसलिए

बुक वैल्यू कैसे बढ़ती है?

मार्केट में ट्रेडिंग के द्वारा शेयरों/इकाइयों की बिक्री से कुल बुक वैल्यू बढ़ जाती है

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.